Wednesday, January 25, 2017

मैं यायावर गुन्जन हूँ - प्रोफे. रामस्वरूप 'सिन्दूर'

मैं यायावर गुन्जन हूँ

जैसे-जैसे दृगबन्ध खुले,
मटमैले सपने रंग धुले,
कोई सुरंग मुझ को मधुवन में छोड़ गयी !
हीरक हथकड़ियाँ, स्वर्ण बेड़ियाँ तोड़ गयी !

मैं बन्दी-राजकुँअर की नियति जी रहा था
पर, कोई भी कल्पना मूर्त हो जाती थी,
तृप्ति के कमल खिलते थे राजसरोवर में
मुक्ति की कामना फिर भी बहुत सताती थी,
खंडित सुरंग, मुझको फिर मुझसे जोड़ गयी !
हीरक हथकड़ियाँ, स्वर्ण बेड़ियाँ तोड़ गयी !


दंशित-तन का विष पिया एक निर्झरणी ने
श्वास का कलुष बह गया तरंगित गन्धों में,
जीती-मरती माटी का काया-कल्प हुआ
सीमान्त सृष्टि सिमटी मेरे भुजबंधों में,
दुर्बल सुरंग, काल की कलाई मोड़ गयी !
हीरक हथकड़ियाँ स्वर्ण बेड़ियाँ तोड़ गयी !

मैं यायावर गुन्जन हूँ पुष्पक घाटी का
मैं महाप्रलय में भी अक्षय लय गाऊँगा,
डूबेंगे जब हिमसृंग अतल जलप्लावन में
शब्द के कंठ में बैठ नाद हो जाऊँगा,
सर्पिल सुरंग, अंजलि में अमृत निचोड़ गयी !

हीरक हथकड़ियाँ, स्वर्ण बेड़ियाँ तोड़ गयी !

Tuesday, January 24, 2017

तुम आये तो - प्रोफे. रामस्वरूप 'सिन्दूर'



तुम आये तो सावन आया, गये उठा तूफ़ान !
जल में तैरे रेगिस्तान !

कुछ कहना हो, कुछ कह जाऊं,
दिन-दिन-भर घर में रह जाऊं,
ताजमहल जैसा लगता है कलई पुता मकान !
जल में तैरे रेगिस्तान !

दर्पण देखूँ, देख न पाऊँ,
अर्थहीन गीतों को गाऊँ,
सूरज डूबे ही पड़ जाऊँ, सर से चादर तान !
जल में तैरे रेगिस्तान !


सोते में चौकूँ, डर जाऊँ,
साँस चले, लेकिन मर जाऊँ,
सिरहाने रखने को खोजूँ, आधी रात कृपान !
जल में तैरे रेगिस्तान !

मुश्किल से हो कहीं सबेरा,
चैन तनिक पाये जी मेरा,
जैसे-जैसे धूप चढ़े, होता जाऊँ नादान !

जल में तैरे रेगिस्तान !

Monday, January 23, 2017

मधुर दिन बीते ......................- प्रोफे. रामस्वरूप 'सिन्दूर'



मधुर दिन बीते-अनबीते !
वर्तमान में नहीं, इन्हीं दोनों में हम जीते !

यादों के सरगम से ऊबे,
सपनों के आसव में डूबे,
आँखें रस पीती हैं, लेकिन होंठ अश्रु पीते !
मधुर दिन बीते-अनबीते !
वर्तमान में नहीं, इन्हीं दोनों में हम जीते !


आतप ने झुठलाई काया,
सर पर बादल-भर की छाया,
सूखी पौद हरी कर देंगें, क्या कपड़े तीते !
मधुर दिन बीते-अनबीते !
वर्तमान में नहीं, इन्हीं दोनों में हम जीते !

हम पनघट की राहें भूले,
मृग मरीचिकाओं में फूले,
कन्धों के घट पड़े हुये हैं, रीते के रीते !
मधुर दिन बीते-अनबीते !

वर्तमान में नहीं, इन्हीं दोनों में हम जीते ! 

Saturday, January 21, 2017

हठ कर गया वसन्त - प्रोफे. रामस्वरूप 'सिन्दूर'

हठ कर गया वसन्त

मन करता है फिर कोई अनुबन्ध लिखूँ !
गीत-गीत हो जाऊँ, ऐसा छन्द लिखूँ !

करतल पर तितलियाँ खींच दें
सोन-सुवर्णी रेखायें,
मैं गुन्जन-गुन्जन हो जाऊँ
मधुकर कुछ ऐसा गायें,
हठ पद गया वसन्त, कि मैं मकरन्द लिखूँ !
श्वास जन्म-भर महके, ऐसी गन्ध लिखूँ !


सरसों की रागारुण चितवन
दृष्टि कर गयी सिन्दूरी,
योगी को संयोगी कह कर
हँस दे वेला अंगूरी,
देह-मुक्ति चाहे, फिर से रस-बन्ध लिखूँ !
बन्धन ही लिखना है, तो भुजबन्ध लिखूँ !

सुख से पंगु अतीत, विसर्जित
कर दूँ जमुना के जल में,
अहम् समर्पित हो जाने दूँ
आगत से, ऐसा भावी सम्बन्ध लिखूँ !

हस्ताक्षर में, निर्विकल्प आनन्द लिखूँ !

Thursday, January 12, 2017

मधुवास जिया जाये - रामस्वरूप 'सिन्दूर'

मधुवास जिया जाये

अधिवास या-कि निर्वास जिया जाये !
प्रति-पल कोई उल्लास जिया जाये !

उच्छवास अतल से अमृत खींच लाये,
नि:श्वास शून्य के अधरों पर गाये,
करुणा मन्वन्तर-व्यापी छन्द रचे
संवास या-कि वनवास जिया जाये !
बारहमासी मधुमास जिया जाये !


वय की संगणना अंकों की माया,
अन्त तक रहेगी सोनल यह काया,
मेरे तप का आतप सह लेती है,
संवेदन की मेघिल-मेघिल छाया,
विन्यास या-कि संन्यास जिया जाये !
ज्वार के शीश पर रास जिया जाये !

मुझ से, मुझ-तक मेरा संज्ञान गया,
कल्प का भेद, मैं क्षण में जान गया,
मैंने ऐसा नि:शब्द गीत गाया
जो बोधिसत्व मुझ में सन्धान गया,
विश्वास या-कि आभास जिया जाये !

केवल कवि का इतिहास जिया जाये !

हार जीत तो दुनिया भर के साथ है - मुकुट बिहारी 'सरोज'

इसमें रोने-धोने की क्या बात है,
हार-जीत तो दुनिया भर के साथ है !

नपी तुली सांसें माटी को मिली, यही क्या कम मिला
यह  किस्मत की बात किसी को ख़ुशी, किसी को गम मिला
तुम तो हो इन्सान कि जो कह लेते हो दुःख-दर्द को ---
चाँद कहाँ तक रोये, जिसके आगे पीछे रात है !

सूरज रोता अगर कि जैसी मिली बिचारे को जलन
कब का डूब गया होता अब तक तारों वाला गगन
लेकिन साहस तो देखो उस चलती-फिरती आग का--
जहाँ पाँव रख देती है, मुस्काता वहीँ प्रभात है !

चरणों का इतिहास मंजिलों से जाकर पूछो ज़रा
कितने चले गुलाबों पर, कितनों का मन प्यासा मरा
तुम शायद विश्वास करोगे नहीं कि इस संसार में---
छुईमुई के पातों तक पर पतझर का आघात है !

इसमें रोने-धोने की क्या बात है,
हार-जीत तो दुनिया भर के साथ है !   

Wednesday, January 11, 2017

बात कुछ भी हो मगर भाई नहीं - मुकुट बिहारी 'सरोज'

चाँद आया, चाँदनी आई नहीं
बात कुछ भी हो मगर भाई नहीं

प्यास ओंठों को जगाती ही रही
आँख सपनों को सजाती ही रही
रात-भर नाची बिचारी वर्तिका
पर पतंगों की सभा गाई नहीं
बात कुछ भी हो मगर भाई नहीं

बन गई चादर सितारों की कफ़न
पाँव तक फैला नहीं पाया पवन
इस तरह निकलीं खुशीं की अर्थियाँ
ओस अब तक भी समझ पाई नहीं
बात कुछ भी हो मगर भाई नहीं

देखकर पानी हिमालय तक चढ़ा
हर युवक  अरमान-शूली पर चढ़ा
बांध बलि के खून बंध तो गया
पर नई तस्वीर मुसकाई नहीं
बात कुछ भी हो मगर भाई नहीं